RSS

MOKO KAHA DUNDH RAHE RE BANDE MAI TO TERE PAAS MEIN…

27 Jun


मोको कहाँ ढूंढ़ं रे बन्दे मैं तो तेरे पास में।
ना तीरथ में ना मूरत में, ना एकान्त निवास में।
ना मंदिर में ना मस्जिद में, ना काशी कैलाश में।
मैं तो तेरे पास में बन्दे, मैं तो तेरे पास में l
ना मैं जप मे ना मैं तप में, ना मैं व्रत उपवास में।
ना मैं क्रियाकर्म में रहता, ना ही योग सन्यास में।
नहिं प्राण में नहिं पिण्ड में, ना ब्रह्मांड आकाश में।
ना मैं भृकुटी भंवर गुफा में, सब श्वासन की श्वास में।ं,
खीजी होय तुरत मिल जा इस पल की तलाश में।
कहैं कबीर सुनो भाई साधो, मैं तो हूं विश्वास में ।

BY
KABIR DAS

English translation by Rabindranath Tagore

O servant, where dost thou seek Me?
Lo! I am beside thee.

I am neither in temple nor in mosque:
I am neither in Kaaba nor in Kailash:

Neither am I in rites and ceremonies,
nor in Yoga and renunciation.

If thou art a true seeker,
thou shalt at once see Me:
thou shalt meet Me in a moment of time.

Kabîr says, “O Sadhu! God is the breath of all breath.”

 
Leave a comment

Posted by on June 27, 2010 in Kabir

 

Tags:

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: